विश्व पोहा दिवस (World Poha Day) कब और क्यों मनाया जाता है?

विश्व पोहा दिवस: एक मधुर और पौष्टिक परम्परा (World Poha Day)

 

delicious Poha

1. पोहा की मधुर और पौष्टिक परम्परा
The Sweet and Nutritious Tradition of Poha

विश्व पोहा दिवस, पोहे की मधुर और पौष्टिक परंपरा को मनाने का एक अद्वितीय अवसर है। यह दिवस हर साल 7 जून को इंदौर, मध्य प्रदेश में धूमधाम से मनाया जाता है। इंदौरी कलाकार राजीव नेमा द्वारा इस अद्वितीय परंपरा की शुरुआत की गई थी। यह दिवस पोहे के आकर्षक स्वाद और उसकी स्वस्थता के कारण खास रूप से मनाया जाता है।

 

2. पोहा: एक प्रमुख भारतीय भोजन
Poha: A Popular Indian Dish

पोहा, भारतीय भोजन में आदिकाल से प्रचलित है। इसे अक्सर सुबह-सुबह एक प्लेट पोहे के साथ चाय के साथ खाया जाता है। इसका स्वाद आहारिक रूप से मन प्रफुल्लित करता है और इसे सभी उम्र के लोगों द्वारा आसानी से उचित माना जाता है। पोहा को तेल में छौंक लगाकर बनाने से उसका स्वाद और आकर्षण और भी बढ़ जाता है। इसकी सरलता से बनने वाली विधि भी इसे और भी पौष्टिक बनाती है।

very tasty and delicious Indore's Poha

3. पोहा की पहचान भारत के विभिन्न राज्यों में
Identification of Poha in Different States of India

पोहा की पहचान अलग-अलग राज्यों में भिन्न नामों से होती है। इसे मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में “पोहे” कहा जाता है, जबकि बंगाल और असम में इसे “चीड़ा” कहा जाता है। तेलगु में इसे “अटुकुलू” और गुजराती में “पौआ” के नाम से जाना जाता है।

 

4. पोहा का प्रमुख उत्पादन स्थान
Primary Production Place of Poha

पोहे का उत्पादन मुख्य रूप से उज्जैन और छत्तीसगढ़ में होता है। हालांकि, यह इंदौर शहर में सबसे अधिक लोकप्रिय है और इसे विभिन्न राज्यों जैसे मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, दिल्ली, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में खूब खाया जाता है। इंदौरी पोहे के दीवाने आमतौर पर बॉलीवुड सेलेब्रिटीज, क्रिकेटर्स, और विदेशी मुलायम भी हैं।

 

5. पोहा की विश्वव्यापी मान्यता
Global Recognition of Poha

पोहे को विश्वव्यापी मान्यता मिली है। इसे 2019 से जीआई टैग (जियोग्राफिकल इंडेक्स टैग) के रूप में मान्यता देने की सिफारिश की जा रही है। यह टैग द्वारा पोहा को उसकी मूल स्थानीयता और महत्व की पहचान मिलेगी। इससे पहले कोई भी व्यक्ति या संगठन पोहा को अपना नहीं बता सकेगा।

 

6. पोहे का स्वाद और पोषण
The Taste and Nourishment of Poha

विश्वभर में प्रसिद्ध इंदौर के पोहे को न खाने वाले हैं तो एक बार जरूर इसे आजमाएं। इसका स्वाद और पौष्टिकता आपको चौंका देगी और इंदौर की परंपरागत स्वाद को आपके जीवन का एक अनूठा अनुभव प्रदान करेगी।

विश्व पोहा दिवस के अवसर पर हमें यह याद रखना चाहिए कि पोहा एक स्वादिष्ट और पौष्टिक आहार है जो हमें सुबह का नाश्ता करते समय ऊर्जा प्रदान करता है। यह दिन हमें पोहे के महत्व और प्रभाव को समझने का अवसर देता है और हमें इस स्वादिष्ट भारतीय व्यंजन का आनंद लेने के लिए प्रेरित करता है। आइए, इस विश्व पोहा दिवस पर पोहे का आनंद उठाएं और इस लोकप्रिय भारतीय व्यंजन की महिमा को मनाएं।

 

विश्व पोहा दिवस पर कविता 

लेखक अशोक भाटी द्वारा रचित यह कविता के माध्यम से पोहा की मधुरता, लोकप्रियता और सामाजिक महत्व को व्यक्त करती है। पोहा के प्रमुखता और इसके विभिन्न पहलुओं को यहां सुंदरता से व्यक्त किया गया है। यह कविता उज्जयिनी की प्रसिद्ध पोहा पंचायत के बारे में भी बताती है और इसकी महत्वपूर्णता को प्रस्तुत करती है।

पोहा गरम गरम है प्यारे,
हम जिंदा पोहे के सहारे।
पोहा जान है मित्र हमारी,
इससे करते खातिर तुम्हारी।
देख कढ़ाई में नियत मचलती,
दर्शन पाकर लार टपकती।
🌹पोहा गरम गरम🌹

इसको खाते राजा नवाब,
इसके आगे है फीकी शराब।
ये भांग से ज़्यादा नशीला,
तंदुरुस्त हो जाये खाकर ढीला।
🌹पोहा गरम गरम🌹

पोहा उज्जयिनी का मशहूर,
इसकी ख्याति क्षेत्र सुदूर।
इसको खाते कवि और शायर,
इसलिये होते नहीं रिटायर।
🌹पोहा गरम गरम🌹

पोहा सांसद मंत्री खाते,
विधायक खुद पोहे बनाते।
इसके पहले कि वोटर आते,
खुद विधायक चट कर जाते।
🌹पोहा गरम गरम🌹

किसी को नहीं कोई शिकायत,
हमने की निर्मित पंचायत।
सब जन्मदिन यहाँ मनाते,
धीरे आन दे सारे गाते।
🌹पोहा गरम गरम🌹

कोई अति सरपंच बन आता,
उस दिन का खर्च उठाता।
चलती रहेगी ये परिपाटी,
दयावान जोशी सर्किट भाटी।

🌹पोहा गरम गरम🌹

@ शब्द रचना: अशोक भाटी

 

कविता का अनुवाद:
(Poem Translation in English)

Poha is hot and delicious, my dear,
We thrive with the support of Poha, no fear.
Poha is our life, a friend so dear,
We eat it for your sake, oh, so clear.
As it sizzles in the pan,
We delight in its sight, like a fan.
🌹Poha is hot and delicious🌹

Kings and nobles relish its taste,
Before it, even wine seems chaste.
More intoxicating than any drink,
It becomes healthy as we savour each wink.
🌹Poha is hot and delicious🌹

Poha, renowned in Ujjain,
Its fame spreads far and wide, not in vain.
Poets and writers devour its bliss,
That’s why they never retire from this.
🌹Poha is hot and delicious🌹

Politicians, MPs, and ministers feast,
MLAs themselves cook the Poha beast.
Before the voters arrive,
The MLA enjoys, being alive.
🌹Poha is hot and delicious🌹

No complaints from anyone arise,
We created a Poha Panchayat, so wise.
We celebrate every birthday here,
Slowly, everyone joins in to cheer.
🌹Poha is hot and delicious🌹

Someone becomes the Sarpanch grand,
Takes care of the expenses, life becomes grand.
This tradition will continue to thrive,
The kind-hearted Joshi Circuit will survive.
🌹Poha is hot and delicious🌹

 

Leave a Comment